Dr.Bhasmang Trivedi MD,Medicine:Health for all:Heart,Body...

Monday, 19/Nov/18, 12:01 PM

Welcome Guest

Site menu

Login form

Section categories

My articles [16]
Health [0]
General health articles for laymen and patients
Poetry [0]
Poetrys written by me and other authors
Review of books [0]
The book read by me,and my opinion about it

Search

Our poll

Rate my site .Did You Like My Last Workshop?
Total of answers: 8

Site friends

  • Create a free website
  • Statistics


    Total online: 1
    Guests: 1
    Users: 0
    Main » Articles » My articles

    नीलकंठ
    लोग अक्सर हमें पुछा करते हे :आप हो क्यूं इतने काले?
    हम हँसके कह देते है :बस यूँ हीं !
    हमारे अंदाज़ है कुछ निराले
    हम तो है  गोरीयों   के दिल चूरानेवाले  !
    गर होता है शक तो ,पूछ लो उस श्यामको  ,
    जिसने खेले  गोपियों संग रास रसीले ।
    लोग अक्सर हमेंपुछा करते हे :आप हो क्यूं इतने काले?
    हम हँसके कह देते है :बस यूँ हीं !
    हमारे अंदाज़ है कुछ निराले,
    हम तो है  दानवों का गुमान चूर करनेवाले | 
    गर होता है शक तो ,पूछ लो उस रामको  ,
    जिसने दशानन के दसों सिर काट डाले ! 
    लोग अक्सर हमें पुछा करते हे :आप हो क्यूं  इतने काले?
    हम हँसके कह देते है :बस यूँ हीं !
    हमारे अंदाज़ है कुछ निराले ।  
    हम तो है  संसार भुजंग के ज़हर चूसनेवाले !
    गर होता है शक तो ,पूछ लो उस नीलकंठ को ,
    जिसने थे धरे मुंहसे विष के प्याले !
    Category: My articles | Added by: Bhalu (19/Jul/13)
    Views: 101
    Total comments: 0
    Name *:
    Email *:
    Code *: